No MSISDN


Gossips

पॉप के ही नहीं चाइल्ड पोर्न के भी किंग

पॉप किंग माइकल जैक्सन की शोहरत के साथ ही उनकी बदनामी भी पीछा नहीं छोड़ रही....
पॉप किंग माइकल जैक्सन की शोहरत के साथ ही उनकी बदनामी भी पीछा नहीं छोड़ रही. अपनी मौत के इतने साल बाद भी चाइल्ड सेक्स से जुड़ी हरकतों को लेकर वह एक बार फिर चर्चा में है. जैक्सन के घर पर 13 साल पहले 2003 में चाइल्ड सेक्स अब्यूज के आरोपों के बाद छापा मारा गया था. इस रेड का एक वीडियो और कुछ फोटोज अब सामने आई हैं. \n\n सेंटा बारबरा काउंटी के डिस्ट्रिक्ट अटॉर्नी ऑफिस और शेरिफ डिपार्टमेंट के 70 लोगों ने ये छापा मारा था, तब काफी पोर्नोग्राफिक सामान बरामद हुआ था. उस छापेमारी का जो वीडियो अब सामने आया है, उसमें कम उम्र के टीनेजरों की नेकेड फोटो समेत और कई अश्लील चीजें दिख रही हैं. \n\n रिपोर्ट्स के मुताबिक, जैक्सन के बेडरूम और बाथरूम से टीनएज उम्र के बच्चों की सात से ज्यादा नेकेड फोटुएं मिली थीं. इसके साथ ही सेक्स को उकसाने वाले नोट्स, डायरी, डॉक्युमेंट्स, फोटोग्राफ्स और ऑडियो टेप भी मिले थे. इसके अलावा ऐसे ही मसालों से भरी कम्प्यूटर हार्ड ड्राइव्स और 80 से ज्यादा वीडियो रिकॉर्डिंग्स भी मिली थीं. \n\n माइकल जैक्सन के बारे में यह चर्चा थी कि खिलौना रेसिंग कार, डिज्नी प्रोडक्ट्स और दर्जनों डॉल्स से यह पॉप स्टार बच्चों को लालच देता था. उसके बाद उनके साथ गंदे काम करता, कराता था, जिसकी इंट्री किताबों में होती थी और वीडियोज भी बनते थे. इन सबका जिक्र उन कोर्ट पेपर्स में भी है, जो एक बच्चे द्वारा सेक्सुअल अब्यूज की शिकायत के बाद फाइल किए गए थे. \n\n जैक्सन के घर से जर्मन फोटोग्राफर विल्हेम वोन ग्लोडेन की फोटोज का कलेक्शन भी मिला था. इस कलेक्शन में 19वीं सदी के टीन एज लड़कों की न्यूड फोटुएं थीं. वह तो 13 साल के लड़के गेविन अरवीजो की हिम्मत थी, जिसने जैक्सन के चाइल्ड सेक्स अब्यूज का भंडाफोड़ किया. उसी के मामले में जैक्सन के खिलाफ वॉरंट जारी हुआ था. इसके बाद जब जैक्सन ने सरेंडर कर दिया, तब उन पर चाइल्ड मोलेस्टेशन के सात और 14 साल से कम उम्र के बच्चे को नशीला पदार्थ देने के दो चार्ज लगाए गए थे. हालांकि, 2005 में जैक्सन को यौन शोषण के आरोपों में बेकसूर पाते हुए बरी कर दिया गया था, पर अब फोटो और वीडियो सामने आने से एक बार फिर पॉप आइकॉन सुर्खियों में हैं. \n\n

सनी लियोनी की सेक्स शिक्षा

बॉलीवुड की सनसनाती हीरोइन सनी लियोनी जितनी हॉट हैं ,उतनी ही उन की बातें निराली. जिस तरह की बिंदास जिंदगी वह कनाडा में जीती रहीं वैसी चाह कर भी वह भारत में जी तो नहीं सकतीं...
"बॉलीवुड की सनसनाती हीरोइन सनी लियोनी जितनी हॉट हैं, उतनी ही उन की बातें निराली. जिस तरह की बिंदास जिंदगी वह कनाडा में जीती रहीं वैसी चाह कर भी वह भारत में जी तो नहीं सकतीं, पर इस फ्री-लाइफ स्टाइल को उन्होंने अपनी बातचीत में ढाल लिया है. वह अब जो भी बोलती हैं खुलकर बोलती हैं. \n\n इसीलिए सनी लियोनी के चाहने वाले केवल उनके रूप पर ही फिदा नहीं हैं, उन्हें अपनी हीरोइन की बातों में भी मजा आता है. सनी भी इस सच को जान चुकी हैं इसलिए बातों का पिटारा कभी बंद नहीं करतीं और हमेशा सुर्खियों में छाई रहती हैं. इस बार उनकी सुर्खियों में छाने की वजह है मैनफोर्स कंडोम. \n\n जी हां मैनफोर्स कंडोम के कैलेंडर लॉन्च के मौके पर सनी लियोनी ने सेक्स और कंडोम पर खुलकर चर्चा की और अपनी निजी जिंदगी को उजागर करने में भी कोताही नहीं की. इस मौके पर उन्होंने खुलासा किया कि मुझे सेक्स के बारे में जानकारी हाईस्कूल में पढ़ाई के दौरान ही मिल गई थी. सच कहूं तो 8वीं से 12वीं के बीच तो मैं इसमें एक्सपर्ट हो गई थी. \n\n सनी लियोनी ने आगे जो कहा वह और भी चौंकाने वाला था. उनका कहना था कि उस उम्र में ही वह सेक्स को इंज्वाय करने लगी थी.सेफ सेक्स और कंडोम के महत्त्व का मुझे पता था. यही वजह है कि आज तक मैं सेफ सेक्स और कंडोम पर विश्वास करती हूं, क्योंकि ऐसा करने पर आप बिमारियों और अनवांटेड प्रेग्नेंसी से छुटकारा पा सकते हैं, बल्कि खुलकर जिंदगी के मजे भी लूट सकते हैं. \n\n याद रहे कि सोशल मीडिया पर पोस्ट की गई अपनी सेक्सी फोटुओं के कारण अकसर सुर्खियों में बनी रहने वाली सनी लियोनी ने आगे कहा कि सेफ सेक्स और कंडोम को साथ-साथ चलना चाहिए. सच तो यह है कि स्कूल या दोस्तों की टीचिंग से सेफ सेक्स की जानकारी नहीं मिलती है. सनी के अनुसार कंडोम खरीदने में शर्म नहीं आनी चाहिए. भारत में इसे लेकर जो झिझक है वह सही शिक्षा के अभाव के चलते हैं. उनका मानना है कि उनके फैंस कम से कम उनकी बातों को मानेंगे और समाज में धीरे-धीरे ही सही जगरूकता बढ़ेगी. \n\n"

Hot Stories

सहेली से प्यार

मैं प्रीती को कॉलेज के समय से जानती हूं. मुझे हमेशा से पता था कि वह कुछ अलग है- छोटे बाल ,मोटरसाइकिल चलाना और ढीले-ढाले कपडे पहनना उसे पसंद था...
"मैं प्रीती को कॉलेज के समय से जानती हूं. मुझे हमेशा से पता था कि वह कुछ अलग है- छोटे बाल, मोटरसाइकिल चलाना और ढीले-ढाले कपडे पहनना उसे पसंद था. उसने कभी भी लड़कियों 'वाली' बातें करने में दिलचस्पी नहीं दिखायी. बाकियों को वो अजीब लगती थी, जबकि मुझे लगता था कि उसमे कुछ बात है. \n\n हम लड़कों और सेक्स के बारे में बातें ज़रूर करते थे, लेकिन उसने कभी भी मुझे यह नहीं बताया कि वो किसको डेट कर रही है. मैंने भी जानने की ज़्यादा कोशिश नहीं की, क्योंकि मैं उसकी निजी ज़िंदगी में दखल नहीं देना चाहती थी. \n\n उस दिन वह आधी रात के बाद अचानक ही मेरे घर आ धमकी. वह बेहद नशे में थी और भावुक भी. रोते-रोते उसने मुझे बताया कि अभी-अभी उसका चार साल पुराना अफेयर टूटा है. मेरे कई बार पूछने पर भी प्रीती ने उसका नाम नहीं बताया. मुझे अपनी सहेली की हालत पर तरस आ रहा था. मुझे केवल यह पता था कि इस मुश्किल घड़ी में मुझे बस उसका साथ देना है. किसी तरह समझा-बुझा कर मैंने उसे घर भेजा. \n\n 'दूर रह इस लड़की से वरना एक दिन यह हम सबको ले डूबेगी,' मां ने बड़े ही गुस्से से कहा था. प्रीती की लड़कों जैसी आदतों की वजह से बाकी सहेलियां भी उससे दूर रहती थीं. पर मैं उसे बोल्ड और आज के जमाने की मानती थी. \n\n प्रीती मेरी हर बात मानती थी. हम दोनों की दोस्ती ऐसी जैसे एक सिक्के के दो पहलू. पर न जाने उसका मुझसे अपने बॉयफ्रेंड का नाम छुपाना खल गया. पर मैं खुश थी कि उसका ब्रेकअप हो गया. अब हम दोनों एक साथ ज्यादा समय बिताने लगे. वो शांत रहने लगी. \n\n 'सोनिया आज मैं तुम्हारे घर पढ़ने आऊंगी वरना फेल हो जाऊंगी,' प्रीती का फोन आया. पढ़ते-पढ़ते आधी रात हो चुकी थी और हम सो गए. अचानक किसी के चुंबनों की बौछार से मेरी आंखें खुल गईं. उसकी आंखों में एक अजीब सा नशा था. वह एक प्रेमी की तरह मुझे चूम रही थी. न जाने क्यों मैं ने उसे नहीं रोका. भीतर अजब सी खुशी की लहर दौड़ रही थी, जैसे जिसकी चाह थी वह मिल गई. \n\n अब मैंने भी प्रीती का साथ देना शुरू कर दिया. फिर एक औरत मर्द के बीच जो होता है, वह हम सहेलियों के बीच हुआ. हमें पता चल गया कि हम दोनों समलैंंगिक हैं. इससे पहले उसने कभी इस बात का ज़िक्र नहीं किया था. उसे पता था कि मेरी परवरिश एक रूढ़िवादी कैथोलिक परिवार में हुई है और शायद वह मुझे खोना नहीं चाहती थी. \n\n मेरा परिवार धार्मिक विचारों वाला कट्टर कैथोलिक था. पादरी और बाइबिल दोनों ही समलैंगिकता को मान्यता नहीं देते. उनकी नज़र में यह निंदनीय है. पर हमें इस बात की परवाह नहीं कि आगे क्या होगा. आज हम बेहद खुश हैं, यही काफी है. \n\n"

दीपा मैडम

बाथरूम की ओर जाते समय पीछे से उसके भारी और गोल मटोल नितंबों की थिरकन देख कर तो मेरे दिल पर छुर्रियां ही चलने लगीं...
"बाथरूम की ओर जाते समय पीछे से उसके भारी और गोल मटोल नितंबों की थिरकन देख कर तो मेरे दिल पर छुर्रियां ही चलने लगीं. मैं जानता था मेट्रो शहरों की लड़कियां केवल बातचीत में ही नहीं व्यवहार में भी बड़ी बोल्ड होती हैं. \n\n मधु की प्रेग्नेंसी की वजह से मेरी इच्छा पूरी नहीं हो पा रही थी. पर इतनी खूबसूरत सांचे में ढली मांसल देह तो मैंने आज तक नहीं देखी थी. काश यह राज़ी हो जाए तो कसम से मैं तो इसकी जिंदगी भर के लिए गुलामी ही कर लूं. \n\n हालांकि हमारी शादी को साल भर ही हुए थे और हम लगभग रोज़ ही मधुर मिलन का आनंद लिया करते थे. मैंने मधु को लगभग हर तरह से घर के हर कोने में जी भर कर प्यार किया था. पता नहीं हम दोनों ने इस तरह कितने ही नए अध्याय लिखे होंगे. कई बार तो रात को मेरी बाहों में आते ही मधु बहुत चुलबुली हो जाया करती थी. \n\n हमारा वैवाहिक जीवन वैसे तो बहुत अच्छा चल रहा था पर मधु व्रत-त्योहारों के चक्कर में बहुत रहती. आये दिन कोई न कोई व्रत, और अब यह प्रेग्नेंसी. \n\n दीपा को महल्ले में आए अभी 4 महीने ही हुए थे. वह एक प्राइवेट स्कूल में टीचर है, जहां मधु भी पढ़ाती थी. वह तलाकशुदा है. फिर तो महल्ले के लड़कों के साथ-साथ उसको निहारने में मैं भी पीछे नहीं रहा. कई बार मधु के ही काम से मैं उसके घर जा चुका था. \n\n बरसात के दिन थे, जब एक रात मधु के ही काम से मैं उसके घर रजिस्टर लौटाने गया. उसने नीली जींस और गुलाबी झीना टॉप पहना हुआ था. इस ड्रेस में वह बहुत मस्त लग रही थी. उसने कॉफी का ऑफर दिया तो मैं खुद को रोक न सका. \n\n कुछ देर बाद मैं चलने को हुआ कि लाइट चली गई. मुझे न हिलने का कहकर वो मोमबत्ती लाने किचन की ओर भागी और किसी चीज से टकरा कर कारपेट पर गिर गई. मैं उसे संभालने को हुआ तो उसके पैर से टकराकर उसी के ऊपर जा गिरा. हम कुछ देर यूं ही पड़े रहे. एक दूसरे की गरम सांसें हमें छेंड़ने लगीं. मुझे लगा समय यहीं थम जाए और मैं उसे बांहों में भींच लूं. \n\n पर शायद आग उधर भी लगी थी. उसने मेरे होंठों पर अपने नर्म होंठ जमा दिए. मैं भी खुद को रोक न सका और उसे मसलने लगा. एकदूजे पर हम ऐसे टूट पड़े जैसे जन्मों के प्यासे हों. \n\n जब लाइट आई तब ही हम अलग हुए. उसने खुद को समेटा और अधनंगी हालत में कमरे की ओर भागी. मेरी प्यास अभी तक बुझी न थी. मैं भी पीछे -पीछे कमरे में घुस गया. उसकी खुली जुल्फें मेरे चेहरे पर किसी काली घटा की तरह बिखर गईं और फिर मैं ने उसे बांहों में जोर से भींच लिया कि उसकी चित्कार ही निकल गई. बस उसके बाद... \n\n इस तरह हमारा रोमांस हमारे घर पर नन्हीं परी के आने तक चलता रहा. दीपा की तरफ से इंकार तो आया ही, मैं भी मेरी प्यारी बेटी परी से दूर नहीं जाना चाहता था. \n\n"

Jokes

कहां से आ रही

एक पति आधी रात को दारू पी कर आया और दरवाजा खटखटाया. बीवी: 'दरवाजा नहीं खोलूंगी..
एक पति आधी रात को दारू पी कर आया और दरवाजा खटखटाया. \n\n बीवी: 'दरवाजा नहीं खोलूंगी, इतनी रात को जहां से आ रहे हो, वहीं चले जाओ" \n\n पति: 'दरवाजा खोलो, नहीं तो नाले में कूदकर अपनी जान दे दूंगा " \n\n बीवी: 'मुझे कोई परवाह नहीं...तुम्हें जो करना है वो करो ' \n\n इसके बाद पति गेट के पास के अंधेरे हिस्से में जाकर खड़ा हो गया और 2 मिनट इंतजार किया. जब दरवाजा फिर नहीं खुला, तो उसने एक बड़ा सा पत्थर उठाया और पास के नाले के पानी में फेंक दिया... \n\n छपाक... \n\n बीवी ने छपाक सुनते ही तुरंत दरवाजा खोला और नाले की ओर तेजी से दौड़ पड़ी, \n\n इधर अंधेरे में खड़े पियक्कड़ पति ने दरवाजे की ओर दौड़ लगाई और बीवी जब तक समझती उसने घर के अंदर जाकर दरवाजा बंद कर लिया. \n\n बीवी लौटी. अब मनुहार करने की बारी उसकी थी. उसने कहा: 'दरवाजा खोलो, नहीं तो मैं चिल्ला-चिल्ला कर सारे मोहल्ले को जगा दूंगी.' \n\n पतिः 'खूब चीखो, चिल्लाओ, जब तक सारे पड़ोसी जमा न हो जाएं. फिर मैं उन सबके सामने तुमसे पुछूंगा कि आधी रात को तुम नाइट गाऊन पहनकर कहां से आ रही हो?' \n\n

बीवियों का दिमाग

बीवी गांव वाली हो या पढ़ी-लिखी ,सभी औरतों का दिमाग ऊपर वाला एक ही फैक्टरी में बनाता है...
"बीवी गांव वाली हो या पढ़ी-लिखी, सभी औरतों का दिमाग ऊपर वाला एक ही फैक्टरी में बनाता है !!!! आप उस दिमाग को जानना चाहते हैं ना.. \n\n ➡ चावल में पानी ज्यादा हुआ तो… - ""चावल नया था,"" \n\n ➡ रोटियां कड़क हो गई तो… - ""कमबख्त ने अच्छा आटा पीस कर ही नहीं दिया,"" \n\n ➡ चाय ज्यादा मीठी हो गयी… - ""शक्कर ही मोटी थी"" \n\n ➡ चाय पतली हो गयी तो … -""दूध में पानी ज्यादा था,"" \n\n ➡ शादी या किसी फंक्शन में जाते समय… - ""कौन सी साड़ी पहनूं ? मेरे पास अच्छी साड़ी ही नहीं है !"" \n\n ➡ घर पर जल्दी आ गए तो… -""आज जल्दी कैसे आ गए ?"" \n\n ➡ लेट हो गए तो.… - ""इतने वक़्त तक कहाँ थे ?"" \n\n ➡ कोई चीज सस्ती मिल जाए तो… - ""तुमको सभी फंसा देते हैं"" … \n\n ➡ महंगी लाई तो… -""तुमको किसने कहा था लाने को ?"" \n\n ➡ खाने की तारीफ़ कर दो तो… - ""मैं तो रोज ऐसा ही खाना बनाती हूं ."" \n\n ➡ खाने को गलत कहा तो… - ""तुमको तो मेरी कदर ही नहीं"".… \n\n नुस्खा यह है कि… 1) खुद का ध्यान रखें, 2) शांत रहने का प्रयास करें. 3) डरना नहीं, 4) ईश्वर आपके साथ है… "

Sex Tips

गरमियों में ऐसे बनाएं प्यार के संबंध

गरमियों में प्यार के टिप्स * गरमियों में बिना नहाए जीने की कल्पना भी मुश्किल है. फिर अगर आप युवा हैं ,तो तालाब ,नदी या फिर स्वीमिंग पुल
"गरमियों में प्यार के टिप्स * गरमियों में बिना नहाए जीने की कल्पना भी मुश्किल है. फिर अगर आप युवा हैं, तो तालाब, नदी या फिर स्वीमिंग पुल का मजा न लेते हों, ऐसा हो ही नहीं सकता. नदी, तालाब और स्वीमिंग पूल चूंकि पब्लिक प्लेस है, इसलिए वहां आपको प्यार करने की इजाजत तो नहीं दी जा सकती पर भीषण गर्मी में भी आप अपने पार्टनर के साथ इन जगहों पर जा तो सकते ही हैं\n\n * याद रखें, नदी, तालाब और स्वीमिंग पूल में स्नान के बाद की ताजगी आपके पार्टनर को कूल होकर आपसे संबंध बनाने के लिए उकसा देगी, बशर्ते की आप इसका इशारा पहले ही कर चुके हों. अगर आप नजरें बचाकर अपनी पार्टनर को छेड़ दें तो उसका मन और भी उत्साहित हो जाएगा. औरतों को अपने प्रेमियों की यह हरकतें बेहद पसंद आती हैं, बशर्ते आप पति बनने के बाद भी उनके प्रेमी बने रहें \n\n * गरमी के कारण न केवल आपका शरीर जलता है बल्कि अगर एसी न हो तो, आपके बेड रूम में लगा बिस्तर भी गरम हो जाता है. तो इस गरमी में आप अपने साथी को लेकर फ्लोर पर ही लेट जायें. ऐसा करना आपके वाइल्ड होने का संकेत तो करायेगा ही साथ ही पार्टनर का मूड भी बन गया तो भोर की हवा में आपका आनंद भी दोगुना हो जाएगा. \n\n * हर पल जब आप चाहें बारिश तो नहीं हो सकती है, लेकिन आप इस अहसास को शॉवर के जरिए अपने बीच जिंदा कर सकतें है, अपने साथी को बड़े ही प्यार से बाथरूम में लेकर जायें और एकसाथ शॉवर के नीचे खड़े हों, इस दौरान अपने साथी के कपड़ों निकालने में उसकी मदद के साथ ही उसे अपने प्यार का अहसास करायें, तय है आप दोनों ही खुश हो जाएंगे\n\n * सुबह की शुरुआत से पहले साथी का ऊड सही कर दिन की शुरुआत एक बेहतर अंदाज से हो जाए, इससे ज्यादा और क्या चाह सकते हैं आप भला, विशेषज्ञों की माने तो सुबह 5 से 6 बजे के बीच बनाया गया शारिरिक संबंध आपको न केवल भरपूर मजा और काफी सुकून देगा, बल्कि लंबे समय तक तृप्त भी रखेगा. \n\n * अगर जेब इजाजत दे तो गर्मियों के दिनों सैर-सपाटे की आदत डालें. अपने शहर से दूर चाहे बर्फीली वादियों, किसी हिल स्टेशन या समंदर किनारे के टूर पर जाएं. ऐसी जगहों पर बनाया गया संबंध आजीवन आपकी शारीरिक फैंटेसी को जिन्दा रखने का काम करेगी \n\n ."

प्यार में आइस का उपयोग

गर्मियां चरम पर हैं और गर्मियों में सेक्स करना कभी-कभी बेहद ही परेशानी का सबब बन जाता है. सर्दियों में जिस...
गर्मियां चरम पर हैं और गर्मियों में सेक्स करना कभी-कभी बेहद ही परेशानी का सबब बन जाता है. सर्दियों में जिस तरह खुशगवार मौसम में आप रजाई में बेहतर सेक्स का मजा लेतें थे अआसर गर्मियों में वही मजा एक सजा बन जाती है.पर अगर थोड़ी सी जानकारी और समझदारी रखी जाए, तो कोई भी मौसम आपके मजे को कम नहीं कर सकता. \n\n कविता का पहले गरमियों में बुरा हाल हो जाता था. जब भी पति कुछ कहता, वह काट खाने को दौड़ती. पर जब भी वह पड़ोस की मीनू को देखती, तो वह हर दिन सवेरे बाल खोले, खिली-खिली सी दिखती. उसमे जरा भी आलसपन नहीं दिखता. एक दिन उसने मीनू से उसकी खुशी का राज पूछा, तो उसने बताया कि अभी वह युवा है, इसलिए उसे रोज ही अपने पति की बाहों में जाना पड़ता है. \n\n इतनी गरमी में वह यह काम कैसे कर लेती है, उस पर उसने अपने अनुभवों के साथ-साथ वह बातें भी बताईं, जो उसने कई महिलाओं एवं उनके द्वारा अपने पुरुषों से की गई बातचीत से हासिल किए थे. आइए, गर्मियों में प्यार या सेक्स करने का एक तरीका हम बताते हैं. तो जानिए वह नया अंदाज, जिससे आप भी गर्मियों में अपनी सेक्स लाइफ को इंटरेस्टिंग और यादगार बना सकते हैं. यह और बात है कि यह तरीका यादगार रखना है, तो इसे रोज न आजमाएं\n\n आइस आइस बेबी, कूल-कूल पार्टनर यह तो आप जानते ही हैं कि गर्मियों में आइस- आइस कूल-कूल का कितना आनंद है. गरमी में बर्फ एक ऐसी चीज होती है जिसे देखने मात्र से ही सुकून का एहसास होता है. आइस क्यूब को केवल अपने ड्रींक को चील्ड करने तक ही सीमित न रखें, क्योंकि यह आपको भले ही कूल-कूल करे, पर आपकी सेक्स लाइफ को बेहद हॉट बना सकता है. \n\n आपको करना बस यह है कि अपने होठों में आइस क्यूब को दबाकर अपने पार्टनर के शरीर पर रगड़े. वहां-वहां जहां उन्हें जलन न हो.यकीन मानिए आपकी इस अदा पर न केवल आपके पार्टनर फिदा हो जाएंगे बल्कि जल बिन मछली की तरह तड़पते हुए आपसे लिपट जाएंगे. लो हो गया आपका काम, गरमी बेचारी फिर क्या करेगी. पर उम्दा तो यह होगा कि पार्टनर के साथ-साथ अपनी खुशी के लिए भी आप आइस के इस प्रयोग के बाद आइसक्रीम खा लें. हम सच कहते हैं, आपका आनंद दोगुना हो जाएगा\n\n
Laoding...